Saturday, 27 February 2016

केर सांगरी रो साग

एक नौजवान हावड़ा स्टेशनपर मिला।
कहने लगा -
"मेरी जेब से पर्स कही गिर गया है,
बस मुझे हावड़ा से धनबाद पहुंचने तक के पैसे दे दीजिये ।
टिकट 105 रूपयेका है । और आगे धनबाद रेलवे स्टेशन से मैं पैदल अपने घर चला जाऊंगा ।
बस 105 रूपये चाहिये।
वैसे मै बहुत संपन्न परिवार से हूँ । मुझे मांगते हुए झिझक महसूस हो रही है ।"

मारवाड़ी ने  कहा -
"इसमे शर्माने वाली कोई बात नहीं है,
कभी मेरे साथ भी ऐसा हो सकता है l

ये लो मेरा फोन,
अपने घर वालो से बात करो,
कहो कि
मेरे इस नबंर पर 200 रूपयेका रिचार्ज करवा दें और तुम मुझसे 200 रूपये नकद ले लो ।
तुम्हारी परेशानी खत्म ।"

वो व्यक्ति बिना कुछ बोले आगे बढ गया।

केर सांगरी रो साग
ओर मारवाड़ी  रो दिमाग
आखा जग में इरो तोड़ कोणी
❗❗..........❗❗

दारू दुसमण देह री, नेह घटादे नैण।

दारू दुसमण देह री, नेह घटादे नैण।
इज्जत जावै आप री, लाजां मरसी सैण।१।

दारू तो अल़घी भली, मत पीवो म्हाराज।
कूंडो काया रो करै, घर मैं करै अकाज।२।

मद मत पीवो मानवी, मद सूं घटसी मान।
धन गंवास्यो गांठ रो, मिनखां मांही शान।३।

दारू री आ लत बुरी, कोडी करै बजार।
लाखीणै सै मिनख रा, टका कर दे च्यार।४।

दारू रा दरसण बुरा, माङी उणा री गत।
ज्यांरै मूँ दारू लगी, पङी जिणां नै लत।५।

ढ़ोला दारू छोङदे, नींतर मारू छोङ।
मद पीतां मरवण कठै, जासी काया छोङ।६।

मदछकिया छैला सुणो, देवो दारू छोङ।
नित भंजैला माजनू, जासी मूछ मरोङ।७।

दारू दाल़द दायनी, मत ना राखो सीर।
लाखीणी इज्जत मिटै, घर रो घटसी नीर।८।

दारू देवै दुःख घणा, घर रो देवै भेद।
धण रो हल़को हाथ ह्वै, रोक सकै ना बैद।९।

धण तो दुखियारी रहै, दुख पावै औलाद।
जिण रै घर दारू बसै, सुख सकै नहीं लाध।१०।

मिनख जूण दोरी मिलै, मत खो दारू पी'र।
धूल़ सटै क्यूं डांगरा, मती गमावै हीर।११।

दारू न्यूतै बण सजन, दोखी उणनै जाण।
दूर राखजे कर जतन, मत करजे सम्मान।१२।

दारू सुण दातार है, घणां कैवला लोग।
मत भुल़ ज्याई बावल़ा, मती लगाजे रोग।१३।

गाफल मत ना होयजे, मद पीके मतवाल।
लत लागी तो बावल़ा, राम नहीं रूखाल़।१४।

रैज्ये मद सूं आंतरो, सदां सदां सिरदार।
ओगणगारी मद बुरी, मत मानी मनवार।१५।

मद री मनवारां करै, नीं बो थारो सैण।
दूर भला इसङा सजन, मती मिलाज्यो नैण।१६।

जे सुख चावो जीव रो, दारू राखो दूर।
घर रा सै सोरा जिवै, आप जिवो भरपूर।१७।

गढ़'र कोट सै खायगी, दारू दिया डबोय।
अजै नहीं जे छोडस्यो, टाबर करमा रोय।१८।

दुख पावैली टाबरी, दे दे करमा हाथ।
परिवारां जे सुख चहै, छोङो दारू (रो) साथ।१९।

चारण ओ अरजी करै, मद नै जावो भूल।
मिनख जमारो भायला, कींकर करो फजूल।२०।

खरा सौदा

खरा सौदा
गुजराती, राजस्थानी और सिन्धी में चर्चा शुरू हुई की सबसे ज्यादा रईस कौन है?

तीनो का ही जवाब था, "मैं"।

यह देख पास ही में बैठा पंजाबी बोला, "साबित करके बताओ की तुम में से सबसे ज्यादा रईस कौन है?"

गुजराती ने जेब से 500 का नोट निकाला और उसकी सिगरेट बना कर माचिस जलाई और पीने लगा।

सिन्धी को इसमें अपनी तौहीन नज़र आई उसने जेब से 1000 का नोट निकाला सिगरेट बनाई और जला कर उसे पीने लगा बोला,"वडी हमसे बड़ा रईस कौन हो सकता है इण्डिया में।"

पंजाबी राजस्थानी की तरफ देखने लगा।

राजस्थानी ने अपना ब्रीफकेस खोला चेकबुक निकाली और एक चेक भरा 5 लाख रुपये, उस चेक की सिगरेट बनाई और माचिस जला कर उसे पीने लगा बोला, "भाया सबसे बड़ा रईस वो जो बिना नुक्सान किये मज़े लेवे।"

कहानी का मूल: सब कुछ करने का लेकिन राजस्थानी से पंगा नही लेने का।

वाद-विवाद

आज का ज्ञान !!!
.
.
जिस छोरी ने स्कूल में वाद-विवाद प्रतियोगिता
जीती हो,
भूल से भी उससे ब्याह ना करें !

सँध्या बिँदणी

ये सुनकर कटप्पा फरार हो गया है..
की
.
.
.
.
.
बाहुबली मर्डर केस की
जाँच
सँध्या बिँदणी
करेगी…

Monday, 22 February 2016

पटवारी के पीछे एक कुत्ता

गॉव में पटवारी के पीछे एक कुत्ता पड़ गया।
सारे गॉव में भागने के बाद पटवारी पेड़ पर चढ़ गया और बोला -
" साले तेरे पास एक बिघा भी जमींन होती न, तो पता चलता की तूने किससे पंगा लिया है ।"

Saturday, 20 February 2016

अठे हर कोई भरे बटका

अठे हर कोई भरे बटका

घुमाबा नहीं ले जावां,
तो घराळी भरे बटका।

घराळी रो मान ज्यादा राखां,
तो माँ भरे बटका।

कोई काम कमाई नहीं करां,
तो बाप भरे बटका।

पॉकेट मनी नहीं देवां,
तो बेटा भरे बटका।

कोई खर्चो पाणी नहीं करां,
तो दोस्त भरे बटका।

थोड़ो सो कोई न क्यूं कह दयां,
तो पड़ौसी भरे बटका।

पंचायती में नहीं जावां,
तो समाज भरे बटका।

जनम मरण में नहीं जावां,
तो सगा संबंधी भरे बटका।

छोरा छोरी नहीं पढ़े,
तो मास्टर भरे बटका।

पुरी फीस नहीं देवां,
तो डॉक्टर भरे बटका।

गाड़ी का कागज पानड़ा नहीं मिले,
तो पुलिस भरे बटका।

मांगी रिश्वत नहीं देवां,
तो अफसर भरे बटका।

टाइम सूं उधार नहीं चुकावां,
तो सेठ भरे बटका।

टेमूं टेम किश्त नहीं चुकावां,
तो बैंक मैनेजर भरे बटका।

नौकरी बराबर नहीं करां,
तो बॉस भरे बटका।

व्हाट्सएप्प पर मेसेज नहीं करां तो,
ऐडमिन भरे बटका।

फेसबुक पर लाइक कमेंट नहीं करां,
तो फ्रेंड भरे बटका।

अब थे ही बताओ,
जावां तो कठे जावां,
अठे हर कोई भरे बटका।
अठे हर कोई भरे बटका।

Friday, 19 February 2016

म्हारला छोरा म दिमाग घणो ही है

मारवाड़ी माँ बाप का सबसे लोकप्रिय डायलॉग-

म्हारला छोरा म दिमाग घणो ही है ।
.
.
.
.
बस पढाई म ही कोनी लगाव ।।

Ak™

जापा

इतिहास के टीचर ने
गाँव के एक स्कूल में पूछा
भुरिया-" थुं यो बता के अकबर कदी पैदा व्यो?
भुरो:  मू कई अठी वठी जापा करातो थोड़ी फरुं मारसाब... मने कई ठा कदी पैदा वियो.!

माता निकल गी

एक बार एक मारवाड़ी को नयो नयो ब्याह होयो। ब्याह के दूसरे दिन ही आपकी लुगाई ने लेकर जा रह्यो हो। रस्ते में एक ताऊ बैठ्यो हो।

ताऊ -छोरा लुगाई ने लेकर कठ जा रह्यो है।

छोरो - अस्पताल जा रह्यो हूँ। माता निकल गी।

ताऊ - अरर लायो तो लुगाई हो, माता कियां निकलगी।

कटका

कटका किसे कहते है?
उत्तर- आंगली मरोड़ने से जो भचीड़ उपड़ता है उसे कटका कहते है

Thursday, 18 February 2016

लाव मिराज  काढ..

अमेरिका में इंटरव्यू

मेनेजर : व्हेर आर यु फ्रॉम ?
लड़का : सर, lndia.
मेनेजर : अरे वाह. India में कहाँ से ?
लड़का : सर, Rajasthan से.
मेनेजर : का वात है डोफा.. Rajasthan मे कठा ती.
लड़का :  jalore थी.
मेनेजर : अन्नी मा रे ! Jalore रो है ?
लड़का : साब थै jalore रा हो ?
मेनेजर : हा....काल थी आवजे रो नोकरी माते...
लड़का : साब मारो बायोडेटा तो देखो परो ...
मेनेजर : कोई नी देखणु डोफा... jalore वाला अमेरिका रा बाप है.........
 
लाव मिराज  काढ..

Sunday, 14 February 2016

दू एक भोगना मै

बीवी को सुबह सुबह उठाने के अलग अलग अंदाज ____
.
.
.
हिन्दू - जानू उठो सवेरा हो गया
.
.
मुस्लिम - बेगम उठो चाँद ढल गया .
.
क्रिश्चियन - डार्लिंग गेट अप्स इट्स डाउन .
.
लेकिन .
मारवाडी तो मारवाडी है - तावडो आयो हे ऊटे क दू एक भोगना मै

वे दिन पाछा आसी काई?

वे दिन पाछा आसी काई?

जन बियाव में "भुंगल" माथे गाना बाजता के " वो परी कहाँ से लाउ, तेरी दुल्हन किसे बनाऊ" अर आधा जूना अर आधा नवा टेंट में निचे बिच्योड़ी दरिया माथे जिमता।

खाने में नुक्ति, खिचड़ी, पकौड़ी, लापसी, पूड़ियां, मिर्चा और चिना री कढ़ी होवती। जद टाबर सबसु पहला जिमता ने जिमावनिया घर-बास रा मिनख हुवता। जद मोटा ने मनुवार सु ने छोटा ने सावचेति सु जीमण परोसता।

टाबर जिमता ही जावता ने केवता-
" ओ भाईसा। थोड़ी नुक्ति घालो तो।"
जबाब मिळतो।
" पेला। पकौड़ियां खत्म करो।

टेम तो आज भी चोखो है, बियाव में जगमग टेंटा में पचास तरीके रा जीमण बने पण जिमवनिया सब भाड़े रा मिनख हुए। रोटियां खोसनि पड़े अर मिठाई मांग ने खावनि पड़े। घर धनि रा लाखो रूपया लागे पण बरातिया अर घरवाला रा पेट तो भरज्या पण मन नी धापीजे।

कूट कूट कर देणी हे

एक लुगाई अपणे पति ने पीट रही थी।

सासू बोली बीनणी छोरे ने क्यूँ मारे है।

बहू बोली सासू जी आँकी तबियत ठीक कोनी
म्हें काल एक आयुर्वैदिक दवाई लाई हूँ 

डाक्टर बोल्यो है दवाई पति ने अच्छी तरह से कूट कूट कर देणी हे |

बटको मारेड़ी सेब

मेरे गाव वाली friend बोली......
मन्नै वैलेंटाइन डे पे के देवेगा????

मै बोल्या -- जो तू मांगेगी.....

मरजानी बोली
मन्ने तो वो फ़ोन चाहिए
जिसके पाच्छे
बटको मारेड़ी सेब
की फ़ोटू है ।

Saturday, 13 February 2016

हरकणो पड़े

In 5th class.......

टीचर- बतावो बच्चों की घर घर में शौचालय बनने से क्या फायदा हुआ है ?
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
माँगियो- अबे हाथमुंडा धोते समय शरम नहीं आती है ।

टीचर- शाबाश।
.
.
टीचर-और क्या फायदा हुआ है ।
.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.

.
माँगियो -  मारसाब अबे आगे नी हरकणो पड़े।

Thursday, 11 February 2016

मारवाड़ी  से पंगा मत लेना...

जिस दिन हम मारवाडी की सरकार बन गई ना तो..
अयोध्या में राम मन्दिर क्या.

पाकिस्तान में  भेरूजी बावजी, का  थान बना देगें 

किसी ने गूगल पर सर्च किया..

"मारवाड़ी "को काबू मे कैसे करें."
गूगल का जवाब आया...

"औकात मे रहकर सर्च करें.."
               
मारवाड़ी  से पंगा मत लेना...
क्योंकि,

जिन तूफानों में लोगो के झोपड़े उड़ जाते है,...
उन तूफानों में तो "मारवाड़ी"कपड़े सुखाते हैं |

मारवाड़ी फ़ौज

कितणा देख्यूं?


ताऊ (अपने बेटे से) : रै
बेवकूफ, मेवालाल जी की
बिटिया नै देख, फर्स्ट आई
है स्कूल में

बेटा : और कितणा देख्यूं?
उसी नै देख-देख के तो फैल
होई गया 

आटो

अब तो हद हो गयी

कल एक ढोलन आई और
आवाज लगाई

भाईसा वेलनटाइन रो आटो गालो

Wednesday, 10 February 2016

वेलेन्टाइन डे कांई बला है?

गुरू जी: आ वेलेन्टाइन डे कांई बला है?

कक्षा को सेऊं हुस्यार छोरो: गुरजी... आ कुंआरां की आखातीज है...

इस साल कोई वैलेंटाइनस डे नहीं |

इस साल कोई वैलेंटाइनस डे नहीं |
.
••• बोल देना उनको की इन्तजार मत करना......
••• कोई प्रपोजल एक्सेप्ट नहीं होगा
क्यूंकि.....
13 को पटवारी की एग्जाम देबा ज्यास्यां
सेंटर दूर है, पाछा 14 की शाम का ही आस्या
रेलगाड़ी लेट होगी तो रात भी हो सके हैं ......
सॉरी छोरियो . नाराज मत होइजो

Tuesday, 9 February 2016

अटे भूल वेगी नी !

NASA का राकेट ब्लास्ट हुआ:

जापान: टेक्नोलॉजी परीक्षण किये थे ?
Nasa: yes

रशिया: क्रिटिकल मास वॉल्यूम ठीक था ?
Nasa: yes

ब्रिटेन: ऑपरेटिंग मोड सिस्टम चेक किया था ?
Nasa: yes

भारत:  भैरू बावजी के नारियल वदारियो...?

Nasa : No...!

भारत:    ले............ अटे भूल वेगी नी !!!!!

Sunday, 7 February 2016

आखर और टाबर

आखर और टाबर
(तर्ज-पातल और पीथल)
____________________
अरे देश री शिक्षा में,अधिकार बीज रो ज्यो बोग्यो।
नाना सा टाबर डौल रह्या,जीवण में अंधारो सो छाग्यो।
हूँ लड़्यो घणो हूँ सह्यो घणो,शाला रो मान बचावण नै।
हूँ पाछ नहीं राखी कुछ भी,शाला परिणाम बढ़ावण नै।
जद स्टाफ पैटरण याद करुं,पद खाली आज नजर आवै।
कक्षाएं ठाली बैठी है,बिन शिक्षक कौन भणा पावै।
कान मेरा  सूना पड़ग्या ,कक्षों से आती सीटी से।
शिक्षक रो धर्म कियां निभसी,सब चौपट होग्या नीति से।
एकीकरण  आदर्शीकरण, मूंडा में ज्यूँ रोटी ताती।
कलमां री स्याही चीख पड़ी,मत लिख कौन पढ़ै पाती।
पण शिक्षक हियो बोल उठ्यो,शाला री पाग पगां में है।
सारे जग रो हूँ  कर्ता धर्ता,ब्रह्मा रो खून रगा  में  है।
हूँ  नेट भरुं , अपलोड करुं, डाकां ई मेल आबाद रहे।
हूँ घोर अभावां में भटकूँ,पर शाला दरपण याद रहे।
शिक्षक री खिमता छीण भई,इक हाथ बजातां ताली नै।
शिक्षक री हाथल टूट गई,अब बाग हँसे खुद माली नै।
                        -कीर के तीर

Friday, 5 February 2016

आख्या काडोला

जोधपुर में जब कोई पति सोने जाता है ,--
तो पत्नी बोलती है
,“Good Night Darling “,,
जब जयपुर में कोई पति सोता है तो पत्नी बोलती है ,“Have a sweet dream ”
जब नागौर में लोग सोने जाते हैं तो पत्नी बोलती हैं –
“रसोई क आगळ दे दी की। थाकी माँ बा मिनकी दूध पिगी तो सुबह आख्या काडोला चाय खातर"

गांव स्टाइल व्हाट्स एप्प चैट

गांव स्टाइल व्हाट्स एप्प चैट :

लड़का : और कीयाँ ?

लडकी : ठीक हूँ

लडका : काय कर रिये है?

लडकी : काय नी ढ़ांडा ने चारो नाकू हूँ और तू काय कर रियोे हैं ?

लडका :मू भी अबार-अबार ढ़ांडा ने पाणी पायो हूं .अब कुटि काट स्यूं।
तू बता रोटी खा ली?

लडकी : हो कदकी खाली.

लडका : काय खायो ?

लडकी : थारी माँ को माथो खायो.. रोटी और टिंडसि को साग खायो है और अठे कळाकंद पड्या है की?

लडका : ज्यादा मत गिल्या कर मोटी हो जावेली.

लडकी : थारा बाप को खाऊ की , साळो कदको ई  माथो खा रियो है.

लडका : चोखो मर पच.

लडकी : तू मर , गंडक अब मेसेज मत करज्ये....
भाई ने केर थारो थोबड़ो तूड़ाऊ की.

लड़का : ओ रेबा दे मै जाणु तन्ने टिकली कमेड़ी न ...बड़ी आई टींडसी का माथा की..

लड़की : तो मेसेज क्यू करयो हो थोबड़ेल का...
लड़का : कुण करे है तने मेसेज सेडली न
लड़की : चाल रे बाप खाणा थाराऊं तो नायां को राजेस्यो ही चोखो.

कमावो कमावो


मारवाडी लडको को  कमाने के लिये सबसे ज्यादा एक ही बात  Motivate  करती हे ,,,,,,

" कमावो कमावो नहीँ तो कोई  छोरी नी देवेला "

Wednesday, 3 February 2016

अबार आंख्यां फोड़ देता

वाइफ के गाल पर गुलाब मारने पर
इंग्लिश वाइफ :
यू आर सो नॉटी
पंजाबी वाइफ :
तुस्सी वड्डे रोमांटिक हो जी
मारवाड़ी वाइफ :
अता बडा होग्या पण लखन टाबरा का ही रेहसी..
अबार आंख्यां फोड़ देता

मारवाड़ी स्टाइल हेजल कीच

मारवाड़ी स्टाइल

हेजल कीच (युवराज की होने वाली बीवी) अपनी पड़ोसन से तीसरे टी ट्वेंटी मैच के बाद बतियाते हुए

" भाई रे धोनीड़े रो तो काळो मुंडो अर लीला पग , पेली दो मैचो में तो  "इयोने"   बैटिंग ही को दी नी।
पछे गळे में आई जने बेटो खुद तो गियो ही कोनी अर "इयोने" भेज दिया बैटिंग माथे। वा तो देवी लाज राखी जने " ऐ" जिता ने ही पाछा आया ,
बाकि ओ धोनीडो तो इयोने रुळावण में ही ज लागोडो हो......

पोठा थापणा है....

जाट डॉक्टर कन गयो और बोल्यो :

डाकटर साब, काल स पतली टट्यां लाग है... कोई दवा दो म्हन...

डॉक्टर बोल्यो : लागण द... तन किसा पोठा थापणा है....

मरतो  मरतो बचियो

बस इतना ही कहा था मैंने कि,
.
तेरे प्यार में बरसों से प्यासा हूँ सनम;

और उसने पानी का पाइप मुंह में डालकर मोटर चला दी!

.
मरतो  मरतो बचियो